Take a fresh look at your lifestyle.

प्रयागराज:-बाहुबली अतीक अहमद के अवैध भवनों पर चला योगी सरकार का बुलडोजर…

0 35

प्रयागराज. योगी सरकार (Yogi Government) का उत्तर प्रदेश के बड़े माफियाओं और बाहुबलियों पर शिकंजा लगातार कसता जा रहा है. गुजरात के अहमदाबाद जेल में बंद बाहुबली पूर्व सांसद अतीक अहमद (Atique Ahmed) की आर्थिक रूप से कमर तोड़ने के लिए पुलिस की कार्रवाई लगातार जारी है. इसी कड़ी में शनिवार को माफिया और पूर्व सांसद अतीक अहमद के हाईकोर्ट के पास स्थित भवन  को गिराया जा रहा है. इसके बाद नवाब युसूफ रोड स्थित उसके भवन पर बुलडोजर चलेगा. पुलिस और प्रयागराज विकास प्राधिकरण की ओर से संयुक्त कार्रवाई की जा रही है.

कुछ दिन पहले ही प्रशासन ने कई भवनों को चिन्हित किया था जो बगैर प्रमाणित नक्शे के बनाए गए थे. अतीक और उसके लोगों के द्वारा जबरन कई भवनों पर कब्जा करने की भी शिकायत मिली थी. पुलिस ने अब तक गैंगस्टर एक्ट के तहत बाहुबली अतीक अहमद की सात सम्पत्तियों को जब्त करने की कार्रवाई की है. जिसकी अनुमानित लागत 60 करोड़ रुपये बतायी जा रही है.

अतीक अहमद का लंबा आपराधिक इतिहास

इसके साथ ही पुलिस 14 सितंबर तक छह अन्य सम्पत्तियों को भी कुर्क करने की तैयारी कर रही है. जबकि डीएम ने अतीक अहमद की सात अन्य सम्पत्तियों को भी कुर्क करने का आदेश जारी कर दिया है. लेकिन इस बीच बड़ी खबर ये है कि अतीक अहमद के केस से जुड़ी कई अहम फाइलें ही थाने से ही गुम हो गई हैं. अब बड़ा सवाल ये खड़ा हो रहा है कि ये केस डायरी वाकई कहीं गुम हो गई है, या फिर इसे जानबूझकर गायब कर दिया गया है. हालांकि पुलिस के लिए भी अतीक अहमद के खिलाफ दर्ज मुकदमों की गायब केस डायरी अब अबूझ पहेली बनती जा रही है. दरअसल बाहुबली पूर्व सांसद अतीक अहमद का लंबा आपराधिक इतिहास है.
अतीक से जुड़ी कई फाइलें थाने से गायब

अतीक अहमद एक बार फूलपुर संसदीय सीट से सपा के सांसद रहे हैं, तो वहीं पांच बार विधायक भी निर्वाचित हुए हैं. उनके खिलाफ वर्ष 2002 में धूमनगंज थाने में दर्जनों मुकदमे एक साथ दर्ज हुए थे. इस मामले में एसएसपी अभिषेक दीक्षित का कहना है कि कई बार पुरानी फाइलें थानों से गायब हो जाती हैं. लेकिन अदालत में उसकी कापी सीओ आफिस और अदालत में मौजूद रहती है. जिससे नई केस डायरी रिकंस्ट्रक्ट कर ली जाती है.

बाहुबली अतीक अहमद डी-227 गैंग का सरगना 

एसएसपी ने पुलिस कर्मियों का बचाव करते हुए कहा है कि केस डायरी गुम होने के मामले में फिलहाल पुलिस कर्मियों की कोई लापरवाही नजर नहीं आ रही है. कई बार फाइलें पुरानी हो जाने से भी उन्हें ढ़ूंढ़ पाना बेहद कठिन हो जाता है. गौरतलब है कि बाहुबली अतीक अहमद डी-227 गैंग का सरगना भी है. अतीक के गैंग के लगभग सवा सौ सक्रिय सदस्य हैं. प्रयागराज पुलिस बाहुबली अतीक अहमद के साथ ही साथ उसके गैंग के सदस्यों पर भी शिकंजा कसने की तैयारी कर रही है.

अतीक के खिलाफ हाल में की गई बड़ी कार्रवाई में पुलिस ने तीन जुलाई को उसके भाई पूर्व विधायक खालिद अजीम उर्फ अशरफ को गिरफ्तार कर जेल भेजा है. अशरफ तीन साल से फरार चल रहा था और उस पर एक लाख का ईनाम भी घोषित था. वहीं बाहुबली अतीक अहमद का बेटा उमर भी फरार चल रहा है, जिस पर सीबीआई ने 2.5 लाख का ईनाम घोषित कर रखा है. एसएसपी के मुताबिक, अतीक अहमद की चिन्हित की गई दूसरी परिसम्पत्तियों को भी सीज करने की कार्रवाई जल्द पूरी की जाएगी.

Leave A Reply

Your email address will not be published.